अक्तूबर 17, 2018

यह लोकतंत्र है

समझ नहीं आता कि हम पॉलिटिक्स के चलते आपसी रिश्ते क्यों खराब कर लेते हैं?

यह लोकतंत्र है


जिन्हें राहुल गाँधी पसन्द हैं उन्हें वही सही लग रहे है। जिन्हें मोदी पसन्द है उन्हें वही सही लग रहे है।

मॉं दुर्गा से प्रार्थना है की सभी देशवासी को खुश रखें...

जिन्हें राहुल पसन्द उनके घर राहुल जैसा बेटा दें..
जिन्हें मोदी पसन्द उनके घर मोदी जैसा बेटा दें.. जिन्हें केजरीवाल पसन्द उनके घर केजरीवाल जैसा बेटा दें..

और जिन्हें माया, ममता पसंद है उन्हें माया ममता सी बहु बेटियाँ दे ..!!
सबका भला हो

इतिश्री
मैं सही / तुम सही / अब कोई बहस नहीं.