नवंबर 09, 2018

जिम्मेवारी हमारी भी है

जानकीनगर वॉलीवॉल प्रीमियर लीग की एक अच्छी शुरूआत आज हुई। आज के सफल आयोजन में जिनका भी कोई योगदान रहा, उन्हें बधाई।

लीग की शुरूआत किसने की, कब की, क्यों की यह हम नहीं जानते हैं और न जानना चाहते हैं। हैप्पी कल्ब के सदस्यों ने भारत स्वाभिमान के प्रभारी श्री रजनीश रमण और कोषाध्यक्ष श्री विमल कुमार दास से संपर्क कर सहयोग मांगा और भारत स्वाभिमान की तरफ से 2500/-₹ का सहयोग दिया भी गया।
हम इस आयोजन से प्रसन्न हैं और हमेशा से इसका समर्थन करते हैं। बालिकाओं और खेल भावनाओं को बढ़ाने वाले इस आयोजन से किसी व्यक्ति या संस्था को न कोई आपत्ति होनी चाहिए और न ही है। लेकिन....
खेल समाप्ति के बाद खेल मैदान में हैप्पी कल्ब और सेवा यूथ फांउनडेसन के सदस्यों के बीच जो गर्मागरम बहस हुई, भारत स्वाभिमान उससे मर्माहत है। जब हमारे ही समाज के छोटे बच्चे हमारे किसी दुर्व्यवहार से मर्माहत हो जाते हैं और हमसे माफी की मांग करते हैं तो यह कहना कि "तुम मेरे ही सामने पैदा हुए हो और मैं तुमसे माफी मांगू? किसी से कोई माफी नहीं मांगूंगा, जिसे जो करना है, कर लें" कोई बड़ा दिलवाला तो हर्गिज नहीं कह सकता है।
हम दोनों संगठन के अग्रजों से कहना चाहते हैं कि अपना दिल थोड़ा उदार रखिए। संगठन का नाम किसी बैनर या कार्ड पर छपने या नहीं छपने से नहीं होता है, लोगों के दिल में छपने से होता है। जिन बच्चों ने दिन-रात एक कर इस लीग को सफल बनाया है, उसकी भी भावना का ध्यान रखना बड़ों का ही काम है। झुकने से कोई छोटा नहीं होता-अकड़ना मुर्दों की पहचान होती है।
अनुजों से आग्रह है कि आपको यदि लगता है तो आपसे गलती हुई है, तो दो दिन और गलती कर ही दीजिए। इस आयोजन को सफलता पूर्वक निर्वहन कर दीजिए, उसके बाद आपलोग आपस में बैठकर निर्णय कर लीजिएगा। भारत स्वाभिमान को कोई पंचायत करने का शौक नहीं है। लेकिन...
यह आयोजन केवल किसी एक या दो संगठन का आयोजन नहीं है। अब इस आयोजन से जानकीनगर की प्रतिष्ठा भी जुड़ चुकी है। कोई संगठन अपना खर्च करके भी यह आयोजन करता तो हम इसे असफल होते देखना नहीं चाहते, इस आयोजन में तो कई संगठन और संस्थान का महत्वपूर्ण योगदान है। कई लोग के खून-पसीने की कमाई लगी है। हम आयोजन को असफल होते कैसे देख लें?
वर्षों पूर्व भी एक तथाकथित खिलाड़ी द्वारा क्रिकेट का आयोजन कर हजारों रूपये उगाही कर बीच में ही भाग खड़ा होने का मामला हमारे सामने आया था। भारत स्वाभिमान ने पूर्णियॉं से कप खरीदकर लाकर मैच को पूरा करवाया, श्री चीचाय साह को 1800/-₹ खिलाड़ीयों के भोजन का दिया, मुंगेर के खिलाड़ियों को घर वापस जाने का भाड़ा दिया था। केवल इसलिए कि जानकीनगर का नाम बदनाम न हो।
हमारा केवल यह कहना है कि मैच अच्छे से समाप्त हो। आपसी भेद-भाव का हिसाब बाद में होता रहेगा, आपलोग आपस में बैठकर कर लेना।
दिनांक 10/11/2018 और 11/11/2018 को मैच में भारत स्वाभिमान के कार्यकर्ता मौजूद रहेंगें। मैच आयोजक को जिस भी प्रकार की सहायता लेनी होगी, ले सकते हैं-हॉं अपना नौकर समझने की भूल कोई न करें। हम कोई हस्तक्षेप न करना चाहते हैं, न करेंगें, लेकिन जानकीनगर का नाम किसी को बदनाम भी नहीं करने देंगें।
आशा है, दोनों संगठन के हमारे बन्धु आपसी सहयोग और भाई-चारे को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए मैच का सफल आयोजन करेंगें।

Call 2 us- 8448447719