जनवरी 31, 2019

बैंक दुर्व्यवहार करना बंद करे!

जानकीनगर में तीन बैंक है और तीनों बैंक में एक-दो कर्मचारी तो  ऐसे हैं कि उनमें मानवता की भी कमी है। ग्राहकों को वे आदमी समझते ही नहीं!
भारत स्वाभिमान के कार्यकर्ता पंकज कुमार द्वारा जारी किये चेक का मनमाने नियम के आधार पर भुगतान नहीं करना तो गलत था ही, वे स्वयं बैंक पहुँचकर जब बात कर रहे हैं तो बैंक कर्मियों का व्यवहार गैर-पेशेवर, गैर-जिम्मेदार और मनमानीपूर्ण था। भारतीय स्टेट बैंक, चोपड़ा बाजार की यह घटना सोशल मीडिया में आने के बाद हमने भी इसपर संज्ञान लिया है। 
हम केवल एस०बी०आई० ही नहीं, केवल बैंक नहीं- सरकारी वेतन लेने वाले हर मुलाजिम से कहना चाहते हैं कि आपकी क्षमता अनंत है, आप काम में उसका कितना उपयोग करते हैं- वह मायने रखता है। काम कम-ज्यादा करें चलेगा, लोगों को जानवर समझना तत्काल बंद करें। एक साधारण विडियो वायरल होने पर बैंक प्रबंधन को मिर्ची लग रही है तो आपने जितना दुर्व्यवहार बैंक ग्राहकों के साथ किया है, उसका दो-चार विडियो वायरल हो जाय तो क्या होगा?
भारत स्वाभिमान ने यदि पूर्व में अच्छे काम के लिए बैंककर्मियों को सम्मानित किया है तो अब बुरे काम के लिए अपमानित नहीं कर सकता, क्योंकि बैंककर्मी की हैसियत नहीं है कि उनका अपमान हो सके! अपमानित होगा जानकीनगर, अपमानित होगा भारतीय स्टेट बैंक, चोपड़ा बाजार शाखा।
भारत स्वाभिमान को बैंकों की मनमानी के कई शिकायतें मिल रही है। जल्द ही सभी बैंक प्रबंधन अपने स्तर से शिकायतों का निबटारा प्राथमिकता से करे। 



Call 2 us- 8448447719